…. है अच्छा! (Hai Accha)


यादों की बहती हुई आंधी मैं खो जाना है अच्छा,

दर्द भरी आहों से भी, खुशियों के बीतें पल मैं जी लेना है अच्छा!

 

वक़्त के साथ उड़ जाते है परिंदे घोसले से

न जाने किस की तलाश मैं|

फिर ज़िन्दगी के चक्रव्यूह मैं गुज़रते दिन

इसी चक्रव्यूह मैं रह जाना है अच्छा!

 

अँधेरे मैं दिया आशा का जलाते रहने की होजये आदत जो

उस उजियाले मैं जी जाने मैं ही राहत हो|

राह मैं जब न रहे हौसले की उम्मीद

उसी दिए की चिंगारी से जल जाना है अच्छा!

For the Benefit of the Non Hindi readers, this is in ‘Hinglish’ 🙂

 

Yaadon ki behti hui aandhimain kho jaana hai accha,

Dard bhari aahon se bhi,

Khushiyon ki beetein pal main jeelena hai accha!

 

Waqt ke saath ud jaate hai parinde ghausle sse,

Na jaane ki ki talash main.

Phir zindagi ke chakravyuh main guzarte din,

Isi chakravyuh main reh jaana hai accha!

 

Andhere main diya aasha ka jalate rehne ki hojaye aadat jo,

Us ujiyale main jee jaane main hi raahat ho,

Raah main jab na rahe hausle ki ummeed,

Usi diye ki chingari see jal jaana hai accha!

 

Advertisements

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s