बावला मन..


पिया थारे बिना चैन नाही आवे है
थोडा बकत भी बावला मन नाही लागे है
जुदाई हमसे सेहन नहीं होबे है
सारी सखियाँ भी अब सतावे है

चाँद की चाँदनी मैं रात भीगी जाए जैसे
रजनीगंधा की खुशबू से समां महक जाए जैसे
तुम्हारी यादों मैं तन्हाई बीती जाए
तुम्हारी जुदाई मैं जान निकली जाए

ना जाने थारे दर्शन से नैना म़ा सुख कब आवेगा
थारे प्यार मैं म्हारा जीयरा कब जी जावेगा

नैना का काजल आसुअं म़ा बहे जाए है
दिन को रात का अंधियारा छाये है
अकेलेपन मा दिल ना लागे
दीवानी को थारी याद सतावे

हवा का एहसास, बरखा का गीलापन
सपनों मैं तुम्हारी बातें, होश मैं दीवानापन
ना जाने कब फिर होगा मिलन
तुम्हारी जुदाई का घम अब और सहा नहीं जाएगा

ना जाने थारे दर्शन से नैना म़ा सुख कब आवेगा
थारे प्यार मैं म्हारा जीयरा जी जावेगा

Special Thank you to Dear Riddhi Chheda for helping me with the language vocabulary!

Advertisements

2 comments

  1. तुम्हारी यादों मैं तन्हाई बीती जाए
    तुम्हारी जुदाई मैं जान निकली जाए

    my fav lines.. sounds like movie song..:)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s